Essay on unity in hindi. 10 Lines on Unity in Hindi 2022-10-22

Essay on unity in hindi Rating: 4,1/10 1668 reviews

Unity is a concept that is highly valued in many cultures and societies around the world. It refers to the state of being united or joined together, and it can be applied to various aspects of life, including relationships, communities, and nations. In Hindi, unity is known as "ekta" or "samyakta."

One of the main benefits of unity is that it allows individuals and groups to work together towards a common goal or objective. When people are united, they are able to pool their resources, skills, and knowledge in order to achieve something that would be impossible to accomplish alone. This is especially true in the case of large organizations, where unity is essential for the smooth functioning and success of the group.

Another important aspect of unity is that it fosters a sense of belonging and togetherness among individuals. When people feel united, they feel connected to one another and are more likely to support and collaborate with one another. This sense of unity can be especially important in times of crisis, when people need to come together and work as a team in order to overcome challenges and adversity.

In addition to its practical benefits, unity also has a number of symbolic and cultural significance. In many societies, unity is seen as a symbol of strength and resilience, and it is often used as a rallying cry in times of conflict or difficulty. Many cultural traditions, such as dance and music, also place a great emphasis on unity and collaboration, as they rely on the coordination and cooperation of all participants in order to be successful.

Despite the many benefits of unity, it is not always easy to achieve. In order to promote unity, it is important for individuals and groups to be open to diversity and to respect the opinions and perspectives of others. It is also important to be willing to compromise and to work towards common ground in order to find solutions that benefit everyone.

In conclusion, unity is a vital concept that has the power to bring people together and to help them achieve great things. Whether it is in the context of personal relationships, communities, or nations, unity is a force that should be cherished and nurtured in order to build stronger and more resilient societies.

एकता पर निबंध

essay on unity in hindi

जिस प्रकार एक चींटी कुछ नही कर सकती जबकि चींटियों का एक झुंड मिट्टी का घर बना देती है ठीक उसी तरह समाज एक है तो बहुत कुछ किया जा सकता है। जब अंग्रेज भारत आए थे तो उन्होंने फुट डालो और शासन करो कि नीति अपनाई थी क्योंकि उन्हें पता था कि भारत एक विशाल देश है और जब तक यहाँ शासक और प्रजा एक रहेंगे तब तक राज करना संभव नही है। अनेकता में एकता पर भाषण Speech of Unity in Diversity in Hindi आदरणीय प्रधानाचार्य महोदय, सभी शिक्षकगण और मेरे प्यारे सहपाठियों. इस पर दल के सबसे युवा हाथी ने कहा- हाँ लेकिन हम जाएंगे तो भी कहा जाएंगे हमें तो कोई जगह भी नही पता। इस पर बूढ़े हाथी ने हँसते हुए कहा कि- तुम्हे नही तुम्हें नहीं पता है लेकिन हमें तो पता है ना हम बहुत सारी जगह जानते हैं जहां हम जा करके अपना पेट भर सकते हैं। इसके बाद हाथी का दल अगले दिन दूसरे जंगल मे निकल जाता है. In this article, we are providing an Essay on Unity in Hindi एकता पर निबंध Nibandh। Essay in 200, 300, 500 words For Class 7,8,9,10,11,12 Students. This is the simple and short essay on Unity In Diversity which is very easy to understand it line by line. भारत में बहुत ज्यादा भौंगोलिक विविधता है। भारत की स्थिति जब देखते हैं तो पता चलता है इसे हम कई अलग अलग भागों में विभाजित कर भारत के उत्तर इन सब भौंगोलिक इकाइयों का तापमान, वातावरण सब कुछ अलग अलग होता है, इसी वजह से यहाँ उगने वाली फसलें, सब्जियाँ, लोगो का रहन, सहन आदि एक दूसरे क्षेत्रों से बहुत हटकर है। भारत की भौंगोलिक स्थिति कई प्राचीन लेखों में भी इसका वर्णन मिलता है और भारत की सीमा को उत्तर के हिमालय से दक्षिण के महासागर तक बताया गया है। भारत मे कई सल्तनतें रही हैं, कई विदेशी आक्रमणकारियों ने हमला किया है लेकिन अपनी भौंगोलिक विविधता के कारण कभी भी कोई शासक पूरे भारत भारत की धार्मिक विविधता.


Next

[ 600 शब्द ] Essay on Unity In Diversity in Hindi ( Short and Simple )

essay on unity in hindi

आज हम सब इस मंच हमारे देश का इतिहास हजारों वर्ष पुराना है। इतने लंबे काल मे कई अलग अलग धर्म को मानने वाले लोग भारत मे शरण लेने आए और यही के होकर रह गए। लेकिन इस देश की महानता देखिए कि किसी को यह एहसास नही कराया जाता है कि वो यहाँ के मूल निवासी नही है। जबकि दुनियाँ भारत देश में जितनी विविधता है उतना किसी देश में नही है, और अगर होती भी तो पता नही वो किस भांति अपने देश को संभालते लेकिन थोड़ी सी विविधता भी कई देशों को सहन नही है। दुनियाँ के अधिकतर देश एकरूपता के आधार यहाँ हिन्दू, मुश्लिम, सिख, ईसाई, जैन, पारसी, सिंधी, बौद्ध जैसे तमाम धर्मों का अनुसरण करने वाले लोग रहते हैं, जिनका, खानपान, पहनावा, मान्यता, त्यौहार, बोली भाषा सब कुछ अलग है लेकिन फिर भी सब एक है। सबकी पहचान भारतीय है और भारतीय होने पर सबको गर्व है। सभी लोग यहाँ मिलजुल कर रहते हैं। एक दूसरे के त्योहारों में शामिल होते हैं और खुशी खुशी सब एक दूसरे को बधाई देते हैं। सच कहें तो ऐसा दृश्य सिर्फ भारत मे ही देखने को मिल सकता है और दूसरे किसी देश मे नही। उत्तर भारत में जहाँ हिंदी भाषा बोली जाती है वही महाराष्ट्र में मराठी, केरल में मलयालम, तमिलनाडु में तमिल आंध्रप्रदेश में तेलुगु, उड़ीसा में उड़िया और पश्चिम बंगाल बंगला भाषा बोली जाती है। भाषा मे इतनी ज्यादा विविधता Essay On Unity in Diversity in Hindi किसी दूसरे देश मे नही देखी जाती। भाषाई विविधता होने के बावजूद भी उत्तर भारत के लोग दक्षिण भारत मे काम करते हैं और दक्षिण भारत के लोग उत्तर भारत मे काम करते हैं। हमारे देश मे सिर्फ भाषाई विविधता ही नही है बल्कि पहनावे वही पंजाबी औरतें सलवार कुर्ता, पंजाबी शूट, शरारा पहनना ज्यादा पसंद करती है जबकि हरियाणा में महिलाएं चुनरी और दामन कुर्ता ज्यादा पहनती हैं। इतनी विविधताओं के बावजूद भी हमारा देश एक है, देश के लोग एक है, लोगो की भावना एक है और सभी भारत को अपनी मातृभूमि मानते हैं। इतनी विविधता से भरा हमारा देश भारत आज दुनियाँ का सबसे बड़ा लोकतांत्रिक देश है। दुनियाँ भर के कई बड़े बड़े सोसलिस्ट हमारे देश और समाज के ऊपर अध्ययन कर रहे हैं और जानना चाहते हैं कि आखिर हमारे देश मे इतनी विविधता है फिर भी सब लोग मिलजुल कर कैसे रह रहे हैं? आज हम बात करने वाले हैं, एकता के बारे में। एकता क्या होती है? किसी भी राष्ट्र के व्यक्ति के हृदय में राष्ट्रीय एकता की भावना का होना उसके राष्ट्र को और भी सशक्त बनाता है और प्रत्येक राष्ट्र यह चाहता है कि उसके राष्ट्र में रहने वाले प्रत्येक नागरिक को अपने राष्ट्र से प्रेम हो और अपने राष्ट्र के प्रति प्रेम की भावना भी हो। राष्ट्रीय एकता देश को मजबूत और सभी देशों से भिन्न राष्ट्र बनाने में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। एकता की भावना एक ऐसी भावना है जो बिना किसी वर्ग और जाति की परवाह किए बिना लोगों को एकजुट होकर रहने के लिए प्रेरित करती हैं। भारत देश मे एक नहीं बल्कि अनेक भाषाएं बोली जाती हैं इसलिए भारत देश को अनेकता में एकता की मिसाल भी कहा जाता है। आज भी कई बार यह देखा जाता है कि जैसे जैसे समय परिवर्तित हो रहा है वैसे-वैसे लोगों के बीच आज एकता की कमी देखी जा रही है। एकता में कमी का कारण? एकतापरअनुच्छेद, paragraphon unity in hindi 500 शब्द प्रस्तावना: एकताकाअत्यधिकमहत्वहै।कईकहानियोंकेसाथ-साथवास्तविकजीवनकीघटनाओंनेसाबितकियाहैकिकैसेएकजुटरहनालोगोंकोताकतप्रदानकरसकताहैऔरउन्हेंएकसामंजस्यपूर्णऔरपरिपूर्णजीवनजीनेमेंमददकरसकताहै।हालांकि, कईलोगअभीभीएकजुटरहनेकेमहत्वकोनहींसमझतेहैं।वेतुच्छचीजोंपरलड़तेरहतेहैंऔरअंततःअकेलेपनकोखत्मकरतेहैं। एकताकेलाभ: यहांएकताकेकुछफायदेहैं: सहायताऔरसमर्थन: जोलोगएकजुटरहतेहैं, वेविपत्तिमेंकभीअकेलेनहींरहते।वेएकदूसरेकीमददकरतेहैंऔरजरूरतपड़नेपरनैतिकऔरआर्थिकसहायताभीप्रदानकरतेहैं।दूसरीओरआपकेआसपासकेलोगोंकेलिएअलगावऔरअनजानमेंरहनेवाले, आपकोअसुरक्षितऔरएकअंतर्मुखीमहसूसकरसकतेहैं। अच्छामार्गदर्शन: जबहमसमाजकेएकहिस्सेकेरूपमेंएकजुटरहतेहैंऔरआसपासकेसभीलोगोंकेसाथअच्छेसंबंधमेंहोतेहैं, तोहमउनसेव्यक्तिगतऔरपेशेवरदोनोंमामलोंकेलिएमार्गदर्शनलेसकतेहैं।बुजुर्गलोगयावेजोअधिकसीखेहुएऔरअनुभवीहैं, विभिन्नमामलोंपरअच्छामार्गदर्शनप्रदानकरतेहैंऔरहमउन्हेंअच्छीतरहसेसंभालसकतेहैं। उचितविकास: एकजुटरहनाहमारेविकासऔरविकासकेलिएअच्छाहै।एक-दूसरेकेसाथएकतामेंरहनेसेविचारोंऔरविचारोंकोसाझाकरनेमेंमददमिलतीहैजोहमारेदिमागोंकोअच्छीतरहसेविकसितकरनेकेलिएकाफीआवश्यकहै।परिवारोंऔरसमाजोंमेंजहांलोगएकजुटरहतेहैंऔरएक-दूसरेकीमददकरतेहैं, बच्चोंकोबढ़नेकेलिएएकस्वस्थवातावरणमिलताहै।यहबच्चोंकेसर्वांगीणविकासकेलिएअच्छाहै। प्रेरणाकास्रोत: जबहमएकसाथकामकरतेहैं, तोहमप्रेरितहोतेहैंऔरकड़ीमेहनतकरनेकेलिएप्रोत्साहितहोतेहैं।हमलक्ष्योंकोपूराकरनेकेलिएएकदूसरेकोधक्कादेतेहैंऔरयहएकमहानप्रेरककारककेरूपमेंकामकरताहै।हमहरउपलब्धिपरएक-दूसरेकोप्रोत्साहितऔरसराहनाकरतेहैं।यहफिरसेएकप्रेरकशक्तिकेरूपमेंकामकरताहै।इसतरहलोगोंकोऔरभीबेहतरकामकरनेऔरअधिकसेअधिकलक्ष्यहासिलकरनेकेलिएप्रेरितकियाजाताहै। एकव्यक्तिजोअकेलेकामकरताहैउसेअपनेदमपरखुदकोप्रेरितकरनापड़ताहैऔरयहकईबारकठिनहोजाताहै। अधिकसेअधिकशक्ति: जबहमएकटीमकेरूपमेंएकसाथकामकरतेहैं, तोहमअधिकसेअधिकलक्ष्योंकोपूराकरनेमेंसक्षमहोतेहैं।हमएकदूसरेकीमददकरतेहैंऔरएकसाथविभिन्नबाधाओंकोदूरकरसकतेहैं।यदिटीममेंदरारहैऔरप्रत्येकव्यक्तिअपनेव्यक्तिगतलाभकीतलाशकरताहैतोसामान्यलक्ष्यहासिलकरनाकठिनहै। ऐसेकईउदाहरणहैंजिनमेंलोगोंनेखेलऔरपरियोजनाएंकेवलइसलिएखोदींक्योंकिउन्होंनेमुख्यलक्ष्यकोहासिलकरनेकेलिएएकटीमकेरूपमेंकामकरनेकेबजायअपनेस्वयंकेछोटेस्वार्थोंकोपूराकरनाशुरूकरदिया। एकमिशनआसानहोजाताहै: जबअधिकसेअधिकसंख्यामेंलोगशामिलहोतेहैंतोएकमिशनलड़नाबहुतआसानहोजाताहै।कईसामाजिकबुराइयोंऔरअन्यायपूर्णप्रथाओंकोअतीतमेंकेवलइसलिएलड़ाऔरमिटायागयाक्योंकिलोगबड़ीसंख्यामेंउसीकेखिलाफलड़नेकेलिएनिकलेथे।एकअकेलाव्यक्तिएककारणशुरूकरसकताहै, लेकिनअकेलेनहींलड़सकता।यहतभीहैजबउसेअच्छासमर्थनमिले; एकलड़ाईजीतनेकीसंभावनाहै। निष्कर्ष: इसप्रकार, हमदेखतेहैंकिएकजुटरहनेकेकईफायदेहैं।हमबड़ेकामोंकोपूराकरसकतेहैं, जरूरतकेसमयलोगोंपरभरोसाकरसकतेहैंऔरअगरहमएकजुटरहेंतोयुवादिमागकोबेहतरतरीकेसेपोषणदेसकतेहैं। एकतापरनिबंध, unity essay in hindi 600 शब्द परिचय : जैसाकिमैटीजे. हमारे बीच आपसी लड़ाई क्यों नही होती? भारत मे विभिन्न धर्मों पर आस्था रखने वाले लोग एक साथ रहते हैं। भारत मे सबसे अधिक जनसंख्या हिंदुओं की है, इसके बाद मुश्लिमों कि जनसंख्या है। हिन्दू, मुश्लिम के अलावा यहाँ सिख, ईसाई, पारसी, बौद्ध, के अलावा अलग अलग पंथ पर आस्था रखने वाले लोग रहते हैं। भारत मे रहने वाले सभी लोग एक दूसरे के धर्मों को का सम्मान करते हैं और दूसरे धर्म के लोगो के त्यौहार में भी हिस्सा लेते हैं। गणपति पंडाल पर मुश्लिम लोग भी व्यवस्थाओं भारत मे इतनी ज्यादा धार्मिक विविधता देखने को जरूर मिलती है लेकिन कभी कभी कुछ लोग इसी विविधता का गलत फायदा उठाते हैं और समाज मे द्वेष फैलाने का काम करते हैं। लेकिन जब बात देश की आती है तो सभी धर्मों के लोग एक साथ मिलकर देश की ताकत बढ़ाते हैं। भारत मे हर धर्म के लोगो के आस्था से जुड़े कुछ विशेष जगह भी मौजूद है। जैसे अजमेर शरीफ, बोधगया, अमृतसर का स्वर्ण मंदिर, हिंदुओं के सभी तीर्थ स्थल मौजूद है। लोग अपनी आस्था के अनुरूप पूजा कर सकते हैं। भारत मे भाषाई विविधता. आज हम देखते हैं कि किसी देश मे रंगभेद के कारण एक दूसरे पर अत्याचार किया जा रहा है तो किसी देश मे किसी खास धर्म से नाता रखने के कारण उन्हें धर्म परिवर्तित करने के लिए मजबूर किया जा रहा और उन पर अत्याचार हो रहे हैं। लेकिन जब भारत की तरफ नजर डालते हैं तो पाते हैं कि पिछले 50 सालों में अल्पसंख्यको की संख्या बहुत तेजी से बढ़ी है। यह सिर्फ एक आंकड़ा नही है, बल्कि यह बताता है कि हमारे देश मे लोग कितना सुरक्षित है और सभी के बीच आपसी सम्मान और प्रेमभाव आज भी बरकरार है। विविधता में एकता पर स्पीच Speech on Unity in Diversity माननीय प्रधानाचार्य महोदय, सम्मानित शिक्षकगण, मेरे सहपाठी और सभी छोड़े बड़े साथियों। आज हम अपने देश की आजादी का पर्व मनाने के लिए यहाँ एकत्रित हुए हैं। यह बात तो हमसब जानते हैं कि हमें यह आजादी कितनी मुश्किलों और कुर्बानियों के बाद मिली है। लेकिन हमारी आजादी ने यह बात जरूर सिद्ध कर दिया कि एकता में शक्ति होती है और हमारा देश तो विविधता में एकता इसी वजह से भारत मे कोई भी लंबे वक्त तक राज नही कर पाया क्योंकि इधर की विविधता से सामंजस्य बैठाना बिलकुल भी आसान नही है। आजादी के बाद से हमारा देश बहुत बदला है। यह बदलाव न सिर्फ देश की सोच में दिखाई देता है बल्कि सामाजिक, राजनैतिक और सांस्कृतिक हर एक मोर्चे पर इसे महसूस किया जाता है। जब भी कोई बड़ा देश जिसमें इतनी ज्यादा विविधता Essay On Unity in Diversity in Hindi मौजूद हो वह बदलाव के दौर से गुजरता है तो यह बिलकुल भी आसान नही होता क्योंकि एकरूपता को हमेशा की विकास का सहायक और विविधता को विकास का रोधक माना जाता है। लेकिन हमारे देश मे ऐसा कुछ देखने को नही मिला। देश में बदलाव होते रहे और लोग इन बदलावों के साथ खुद को ढालते रहे। लेकिन यह सब संभव नही हो पाता यदि देश के लोगो मे एकता की भावना नही होती। भारत को त्यौहारों का देश कहा जाता है। यहाँ रहने वाले लोग अपने धर्म पर भरोसा करते हैं और दूसरे के धर्म का सम्मान करते हैं। यही वजह है कि नवरात्रि में गुजरात मे पंडाल लगता है तो उसमें मुश्लिम समुदाय के लोग न सिर्फ मदद करते हैं साथ मे गरबा देखने भी आते हैं। कृष्ण की नगरी में जब कृष्णजन्माष्टमी मनाई जाती है और वहाँ मटकी फोड़ने का आयोजन किया जाता है तो तो उसमें मुश्लिम भी शामिल होते हैं। देश की विविधता Essay On Unity in Diversity in Hindi में एकता के अनेकों उदाहरण हमको देखने को मिल ही जाते हैं। हमारे देश मे जहाँ 150 से ज्यादा भाषाएँ और 3000 से भी ज्यादा बोलियाँ हैं, जो देश 29 राज्यों में बंटा हुआ है और हर राज्य की सांस्कृतिक विरासत अलग अलग है वह देश इतनी विविधता के बावजूद भी विश्व मे मजबूती से खड़ा है। लोग हैरान होते हैं हमें देखकर की हम इतने अलग होने के बाद भी कैसे एक दूसरे के साथ रह लेते हैं। विदेशी पर्यटकों के मन की यही कौतूहल उन्हें भारत खींचकर लाती है। भारत हमेशा से ही विविधता Essay On Unity in Diversity in Hindi को मानता रहा है और इसे स्वीकार करता आया है। हममें से बहुत सारे लोग इस बात को नही जानते कि अरब देशों के बाद दुनियाँ के जिस देश मे पहली मस्जिद बनी थी वह देश भारत ही है। इसका निर्माण 629 ईसवी में हुआ था। उस वक़्त तो हमारे देश मे इस्लाम की शुरुआत भी नही हुई थी फिर भी हमारे देश के राजा ने इस्लामिक इबादतगाह बनाने की अनुमति सिर्फ इस वजह से दी थी क्योंकि एकता और सभी धर्मों के लिए सम्मान का भाव हमारे समाज के बुनियाद में है और यह अभी भी झलकता है। इस देश को लोगो को कोई अनुशासन नही सिखाता लेकिन फिर भी सब अनुशाषित रहते है क्योंकि यह भी हमारी सभ्यता का हिस्सा है। विविधता में एकता Essay On Unity in Diversity in Hindi का भाव जबतक हमारे देशवासियों में रहेगा तब तक इस देश का कोई बाल भी बांका नही कर सकता। हमारे देश के युवाओं को भी यह बात भलीभांति समझना होगा कि सहअस्तित्व और परस्पर सहयोग से ही इस देश के विकास की कुंजी है क्योंकि यदि विविधता ही देश के विकास में गतिरोध उत्पन्न करने लगेगी तो फिर उस गरीरोध को कोई दूर नही कर सकेगा। इसलिए यह जरूरी है कि हम सभी धर्मों, जाति और लोगो का सम्मान करें। धन्यवाद. Essay On Unity in Diversity in Hindi: अनेकता में एकता यही है यही है भारत की विशेषता. Essay On National Unity In Hindi भारत को एक रूप में पिरोने के लिए महापुरुष सरदार वल्लभ भाई पटेल के अथक प्रयासों से ही हमारे राष्ट्र को वर्तमान स्वरूप मिला है।उनके प्रयासों के कारण ही विभिन्न रियासतों के कई राजाओं को एक रुप कर हमारे राष्ट्र का निर्माण किया। हमारे प्यारे देश भारत की पहचान एक ऐसे राष्ट्र के रूप में है जिसमें अलग-अलग धर्मों के लोग एकता बनाए हुए एक दूसरे के साथ बड़े भाई चारे के साथ रहते हैं। हमारा देश विविधता में एकता का एक उदाहरण है। भारत में विभिन्न जातियों के लोग विभिन्न भाषाएं बोलते हैं।अपनी अलग-अलग परंपरा होने के बावजूद भी भारतीय एकता बनाकर रखते हैं। अलग-अलग संस्कृति होने के बाद भी हमारे देश में एकता है, जो हमारे लिए गर्व की बात है। राष्ट्रीय एकता से मतलब है कि लोगों में राष्ट्र के प्रति प्रेम समर्पण हो एवं आपस में भाईचारा हो एक दूसरे धर्म के प्रति सम्मान हो एवं राष्ट्र के प्रति प्रेम अपनत्व की भावना सबसे ऊपर हो । एक राष्ट्र के निर्माण के लिए राष्ट्रीय एकता बहुत ही आवश्यक है। हमारे देश में 1652 भाषाएं विभिन्न प्रांतों में बोली जाती है एवं हिंदू मुस्लिम सिख ईसाई आदि कई अन्य धर्म है। इतनी विविधता के साथ राष्ट्रीय एकता होना भारत देश के लिए बहुत ही आवश्यक है। हमारे देश की आजादी के पीछे भी राष्ट्रीय एकता ही मुख्य वजह थी जिससे हमें एक होकर अंग्रेजो के खिलाफ 1947 में आजादी मिली थी। राष्ट्रीय एकता ना होने से हमारे भारत देश के राजाओं में एकता ना होने की वजह से कई बार विदेशी शासकों ने अपने राज्य स्थापित किए । भारतीय जनता के मध्य अलगाव की एक चरण स्थिति है जिसके अंतर्गत लोग सांप्रदायिक व धार्मिक रूप से एक दूसरे से बनाए बुराई बुराई लेकर बैठे हुए हैं। भारत में अलग-थलग होने के कारण हमारी ढेर सारी सामाजिक समस्याएं बनी हुई है जैसे 1947 में भारत का बंटवारा हुआ उसके बाद 1992 में बाबरी मस्जिद को तोड़ा गया और हिंदू और मुस्लिमों के बीच दंगे । इस तरह की सामाजिक समस्याएं हमारे भारत को अलगाव की तरफ लेकर जा रही है, जिस से बचना हमारे लिए बहुत ही आवश्यक है। हमारे पूर्वजों द्वारा भी कई बार कहा गया है कि एकजुट रहें तभी हम मजबूत होंगे, पुरानी कहावत है एकता में बल है। एकजुट होकर कोई भी लक्ष्य प्राप्त किया जा सकता है। विविधता में एकता लाने के लिए भारत सरकार द्वारा हमेशा से कानून बनाते आ रहे है लेकिन यह मानव दिमाग है इसमें विविधता में एकता लाना बहुत ही कठिन कार्य है। हमारे देश में राष्ट्रीय एकता के लिए भावनात्मक एकता लाना अत्यंत आवश्यक है। भारत सरकार भावनात्मक एकता बनाए रखने के लिए हमेशा से प्रयास करती आ रही है ताकि विविधता में एकता लाई जा सके। राष्ट्रीय एकता से प्रत्येक व्यक्ति को लाभ मिलता है।राष्ट्रीय एकता बनाए रखने से ही हमारा देश एक अच्छे तरीके से चल पाता है। एकता बनाए रखने से ही व्यक्ति समाज में सही तरीके से अपना स्थान बना पाता है। लड़ाई रखने में समाज में विविधता में उत्पन्न होती है और वह समाज कभी भी एकता का सामना नहीं कर सकता। एकता नहीं होने से समाज की बहुत बड़ी हानि होती है।एकता के अभाव में एक देश या समाज एक रोगी की तरह जीवन हो जाता है।भारत में राजाओं में एकता नहीं होने की वजह से ही हमारे देश पर कई ब का आदि थे। वह कई वर्षों तक हमारे देश में शासन करते रहे हमारी एकता की वजह से ही हमारा देश कई सदियों तक अंग्रेजों का शासन हुआ। Conclusion Essay On National Unity In Hindi अतः इस तरह की समस्याओं से बचने के लिए हमेशा राष्ट्रीय एकता को सर्वोपरि रखना होगा। हमें राष्ट्र निर्माण के लिए सदैव तत्पर रहना चाहिए।प्रत्येक भारतवासी को यह आवश्यकता है कि वह प्रतिदिन एकता का पाठ की पढ़ाई करें, एकता को जीवन में उतारें एवं अपने राष्ट्र निर्माण में अपना योगदान दें।. You can also visit my YouTube channel which is Facebook at. राष्ट्रीयएकताकामतलबहैसम्पूर्णभारतकोएकताएवंअखंडताकेसूत्रमेंबांधेरखना।जबतकराष्ट्रकेसभीनागरिकएकनहींहोंगे, तबतकदेशकासम्पूर्णविकासनहींहोसकताहै।औरभारततोविभिन्नतामेंएकता unity in diversity दर्शातीहै, इसलिएहमारेलिएराष्ट्रीयएकताऔरभीमहत्वपूर्णहोजातीहै। राष्ट्रीयएकतापरनिबंध हमारादेशविश्वकेमानचित्रपरएकविशालदेशकेरूपमेंचित्रितहै।प्राकृतिकरचनाकेआधारपरतोभारतकेकईअलग-अलगरूपऔरभागहैं।उत्तरकापर्वतीयभाग, गंगा-यमुनासहितअन्यनदियोंकासमतलीयभाग, दक्षिणकापठारीभागऔरसमुद्रतटीयमैदान। भारतकाएकभागदूसरेभागसेअलग-थलगपड़ाहुआहै।नदियोंऔरपर्वतोंकेकारणवेभागएक-दूसरेसेमिलनहींपातेहैं।इसीप्रकारसेजलवायुकीविभिन्नताऔरअलग-अलगक्षेत्रोंकेनिवासियोंकेजीवन -आचरणकेकारणभीदेशकास्वरूपएक-दूसरेसेविभिन्नऔरपृथक्पड़ाहुआदिखाईदेताहै।इनविभिन्नताओंकेहोतेहुएभीभारतएकहै। इसप्रकारभारतकीएकताऐतिहासिकदृष्टिसेएकहीसिद्धहोतीहै।हमारेदेशकीएकताकाएकबड़ाआधारदर्शनऔरसाहित्यहै।हमारेदेशकादर्शनसभीप्रकारकीभिन्नताओंऔरअसमानताओंकोसमाप्तकरनेवालाहै।यहदर्शनहै- सर्वसमन्वयकीभावनाकापोषक।यहदर्शनकिसीएकभाषामेंनहींलिखागयाहै, बल्कियहदेशकीविभिन्नभाषाओंमेंलिखागयाहै। भारतकीएकताकीसबसेबड़ीबाधाहीऊँचे-ऊँचेपर्वत, बड़ी-बड़ीनदियाँदेशकाविशालक्षेत्रफलआदि।जनताइन्हेंपारकरनेमेंअसफलहोजातीथी।इससेएक-दूसरेसेसम्पर्कनहींकरपातेथे।आजकीवैज्ञानिकसुविधाओंकेकारणअबवहबाधासमाप्तहोगईहैं।देशकेसभीभागएक-दूसरेसेजुड़ेहुएहैं।इसप्रकारहमारीएकताबनीहुईहै। हमारेदेशकीएकताकासबसेबड़ाआधारप्रशासनकीएकसूत्रताहै।हमारेदेशकाप्रशासनएकहै।हमारासंविधानएकहैऔरहमदिल्लीमेंबैठे-बैठेहीपूरेदेशपरशासनएकसमानकरनेमेंसमर्थहैं।राष्ट्रीयएकतासमयकीपुकारहै।सभीदेशवासियोंकायहकर्तव्यहैकिवेराष्ट्रकेप्रतिअपनेउत्तरदायित्वकापालनकरेंऔरराष्ट्रीयएकता national unity बढ़ानेमेंअपनायोगदानदें।.

Next

विविधता में एकता निबंध

essay on unity in hindi

भारत की कुल जनसंख्या भाषा की विविधता देश की ताकत भी है और कभी कभी कमजोरी भी बन जाती है। लेकिन फिर भी इतनी विविधता होने के बावजूद काममाज में कोई रुकावट नही आती। अंग्रेजी भाषा का प्रभुत्व भी भारतीय समाज मे बहुत ज्यादा है। अधिकतर लोग अंग्रेजी भाषा को उत्तरभारत और दक्षिण भारत को जोड़ने वाली भाषा मानते हैं। दक्षिण भारत मे इंग्लिश को द्वातीय भाषा का दर्जा प्राप्त है। इन सब के बीच हिंदी भाषा का भी एक अहम स्थान है। भारत की पहचान हिंदी भाषा, पूरी दुनियाँ में सबसे ज्यादा बोली जाने वाली भाषाओं में से एक है। भारत की राजनीतिक विविधता. This essay is very simple. Students who want to know a detailed knowledge about Unity, then Here we posted a detailed view about 10 Lines Essay Unity in Hindi. लेकिन उनके लिए बस यही कह सकते हैं कि विविधता तो दुनियाँ के लिए है बाकी दिल से हम सब पहले भारतीय है उसके बाद किसी धर्म से जुड़े हुए लोग। अब मैं अपने शब्दों को इन दो पंक्तियों अनेकता में एकता, यही तो है भारत की विशेषता. एक दूसरे के साथ मिलजुल कर रहना ही एकता कहलाती है, तो आइए आपको एकता के बारे में जानकारी देते हैं। एक साथ रहने के क्या फायदे होते हैं? भारत एक विविध संस्कृतियों और धर्मो वाला देश है। हमारे देश में विभिन्न धर्म के लोग एक साथ एक समाज में रहते हैं। जहां पर आने वाली पीढ़ियों को यह सिखाया जाता है कि वह एक साथ एक ही समाज में रहे और एकजुटता के साथ अपना जीवन व्यतीत करें। राष्ट्रीय एकता किसी भी देश के लिए एक बेहद महत्वपूर्ण भावना होती है जो उस देश के प्रत्येक व्यक्ति को उस देश से प्रेम भाव रखने के लिए प्रेरित करती है। एकता की भावना का महत्व? इत्यादि सब के बारे में आपको बताते हैं। एकता पर निबंध Essay on Unity in Hindi एकता पर निबंध 250 शब्द अगर हम चाहते हैं, कि हमारे देश का विकास हो, तो हमें भारत में राष्ट्रीय एकीकरण को अपनाना बहुत ही जरूरी है। एकता की वजह से ही एक देश बहुत मजबूत बन सकता है, इसीलिए लोगों को इसके प्रति जागरूक होना चाहिए। 19 नवंबर से 25 नवंबर तक राष्ट्रीय एकता दिवस मनाया जाता है। 19 नवंबर को एक विशेष तरीके से आयोजन किया जाता है, क्योंकि इस दिन इंदिरा गांधी जी का जन्म हुआ था। भारत बहुत ही बड़ा और विशाल देश है। जिसकी वजह से इस देश में हिंदू, मुस्लिम, जैन, ईसाई, पारसी, सिक्ख, इत्यादि सभी धर्म के जाति के और संप्रदाय के लोग पाए जाते हैं। हिंदू धर्म सबसे पुराना धर्म है, जो वैदिक धर्म सनातन धर्म, पौराणिक धर्म और ब्रह्म समाज इन सभी संप्रदायों और जातियों में से बटा हुआ है, और सभी जातियों और धर्म में यही कानून लागू हुआ है। इसका मतलब यह है, कि विभिन्न धर्मों संप्रदाय जातियों प्रजातियों भाषाओं इन सभी के चलते लोगों में विभिन्नता पाई जाती है, परंतु सब होते इंसान ही हैं। कभी भी धर्म, जाति, रंग, संप्रदाय, को लेकर भेदभाव नहीं करना चाहिए। अगर हमें देश का विकास करना है, तो हमें एकजुट होकर एकता मिलाकर हैं। सभी कार्य करने होंगे। देश का विकास तभी संभव हो सकेगा, जब सभी एकजुट होकर काम करेंगे। इसमें कोई भी धर्म या जाति बीच में नहीं आएगी। भारत में इसे विविधता में एकता के रूप में जाना जाता है, अर्थात सभी अपनी अपनी जातियों के साथ मिलकर एकता बना लेते हैं परंतु यह सही नहीं है। एकता पर निबंध 1200 शब्द प्रस्तावना एकता का मतलब बिल्कुल साफ साफ होता है, यह अपनी अभिव्यक्ति खुद ही करता है। इसका मतलब होता है, एकजुट होकर रहना मजबूत रिश्तो का निर्माण करना और मजबूत समाज के निर्माण के लिए एकता बहुत जरूरी है। हमारा एकजुट होकर रहना बहुत ही महत्व रखता है। भारत में हमेशा से ही एकता को लेकर बहुत ही ज्यादा जोर दिया गया है, और इसके लिए लोगों को काफी जागरूक भी किया गया है। देखा जाए तो, एकता ही एक ऐसी भावना होती है, अगर प्रत्येक व्यक्ति के मन में समाहित हो तो वह समाज का प्रत्येक व्यक्ति एक दूसरे की सहायता के लिए ही हमेशा तत्पर रहता है और इसी एकता की वजह से ही हर व्यक्ति का भी समर्थन करता है। भारत में कैसी है राष्ट्रीय एकता? We hope you have got some learning about Unity In Diversity.

Next

राष्ट्रीय एकता पर निबंध 500+ Words Essay on National Unity in Hindi

essay on unity in hindi

क्या प्रभाव पड़ता है? वह किस तरह से उपयोगी होते हैं? एकता एक भाव है जिसका जन्म किसी के अंदर तब होता है जब उसे इस बात का ज्ञान होता है कि दूसरा भी उसी की भांति है, उससे भिन्न नही है। स्थूल स्तर Short Essay on Unity in Diversity in Hindi 100 words हमारा देश एक विशाल देश माना जाता है, जहाँ करीब 130 करोड़ लोग प्रेमभाव के साथ रहते हैं। भारत दुनियाँ का एक मात्र ऐसा देश है जहाँ हर धर्म, पंथ, विचारधारा और संप्रदाय को मानने वाले लोग रहते हैं। सभी लोगो के रस्म-रिवाज, पहनावा और बोली भाषा अलग होती है लेकिन फिर भी किसी के अंदर दूसरे के प्रति वैमनस्य इसी वजह भारत एक ऐसा देश है जहाँ हर 100 किलोमीटर में बोली बदल जाती है, 400 किमी. Unity एकता 1 एकता का अर्थ है एक दूसरे के साथ मिलजुल कर रहना। 2 कठिन समस्या में एक दूसरे का साथ देना। 3 विपरीत परिस्थितियों में साथ खड़े होना। 4 एकता में शक्ति होती है। 5 मनुष्य एक सामाजिक प्राणी है हमें समाज में एक दूसरे के साथ मिलजुल कर रहना चाहिए। 6 यदि हम में एकता ना हो तो बाहरी संकट का खतरा बढ़ जाता है। 7 एकता के साथ मिलकर हम बड़ी से बड़ी समस्याओं का सामना कर सकते हैं। 8 हमें हमेशा आपस में मिलजुल कर एक साथ रहना चाहिए 9 साथ रहने से हमारा मनोबल बढ़ता है। 10 यदि हम एक साथ के साथ मिलजुल कर किसी समस्या का हल ढूंढने तो बहुत आसानी से हल हो जाती है। Hope above 10 lines on Unity in Hindi will help you to study. पुरे विश्व में विविधता में एकता को केवल भारत में देखि जाती है। Students in school, are often asked to write Long essay on Unity In Diversity in Hindi. Here we are always ready to help You. We use your comments to further improve our service. भारतीय सामाजिक व्यवस्था को देखने पर यह मिलता है यहाँ हर व्यक्ति दूसरे पर निर्भर है। जैसे हमारा देश मे जो जाति प्रथा थी उसमें यह बताया गया था कि किस जाति का व्यक्ति क्या काम करेगा। जैसे किसान का एक दूसरे पर यह निर्भरता सिर्फ इस वजह से थी क्योंकि एक व्यक्ति अपनी सभी जरूरत को पूरी नही कर सकता था। जाति का यही व्यवस्था फिर अलग अलग धर्मों पर भी लागू हो गई। एक धर्म के लोग, दूसरे धर्म के लोग पर किसी खास काम के लिए निर्भर रहने लगे जिसके बाद यही आत्मनिर्भरता के कारण ही आपसी एक कि बुनियाद मजबूत हुई। निष्कर्ष. This Long essay on Unity In Diversity is generally useful for class 5, class 6, and class 7, class 8, 9, 10.

Next

Essay On Unity in Diversity in Hindi

essay on unity in hindi

हम भारत को यदि बाग कहें तो गलत नही होगा क्योंकि यहाँ भी उतनी ही विविधता है जितना बाग में होती है। वहाँ भी अलग अलग प्रजाति के पुष्प खिलते है लेकिन सब मिलकर वातावरण को सुगंधित करते हैं। ठीक ऐसे ही हम भारतीय हैं। Essay on importance of Unity in Diversity in Hindi 500 Words प्रस्तावना एक कहावत कही जाती है कि हाथ की पांचों उंगलियां भले ही बराबर न हो लेकिन एक उंगली यदि हटा दी जाए तो मुट्ठी नही बांध पाएंगे। यह कहावत असल मे एकता की शक्ति को दर्शाती है। एकता का महत्व बहुत ज्यादा है। खासकर भारतीय समाज मे इसका महत्व और भी अधिक बढ़ जाता है क्योंकि यहां सबसे ज्यादा विविधता है। हमारे देश का इतिहास बहुत प्राचीन है और यह बात हमारे पूर्वज जानते थे कि भारत एकता का अर्थ हम किसी दूसरे से भिन्न नही है बल्कि उसी के समान है यही भाव एकता का भाव कहलाता है। एकता का मतलब है हम एक हैं। लेकिन हमारे देश में तो इतनी विविधता हम भारतीयों के अंदर एकता का भाव किसी जाति, धर्म आदि के आधार पर नही आया है क्योंकि इस आधार पर तो हमारे देश मे बहुत ज्यादा विविधता है। एकता एकता का महत्व भारतीय समाज में अनेक लोकोक्तियाँ प्रचलित हैं जो एकता के महत्व को बताती है। जैसे कहा जाता है कि अकेला चना भाड़ नही फोड़ सकता। एक अकेला तिनका किसी काम का नही होता लेकिन जब यही मिलकर एक रस्सी बन जाता है तो बलशाली हाथी को भी काबू कर लेता है। यही एकता ही शक्ति है। विश्वविजयी सिकंदर जब पूरी दुनियाँ को जीतने इसका कारण रहा भारतीय राजाओं की एकता। आचार्य चाणक्य इस बात को भलीभांति जानते थे कि सिकंदर को हराना है तो भारत को एक होना ही पड़ेगा। एकता की शक्ति के अनेकोनेक उदाहरण मिल जाएंगे। हमारे देश को आजादी भी एकता के बल स्वार्थ है एकता का दुश्मन. Today, we are sharing Simple essay on Long essay on Unity In Diversity in Hindi. जब समाज के व्यक्ति स्वार्थी हो जाते हैं और वह अपना ही सोचने लगते हैं तब एकता में कमी आना प्रारंभ हो जाता है जो समाज और देश के हित में नहीं है। समाज के व्यक्तियों में जब स्वार्थ की भावना आती है और उनकी विचारधारा संकीर्ण हो जाती है तब स्वहित से प्रेरित होकर एकता से दूर होते चले जाते हैं और उनमे बात बात में संघर्ष की स्थितियां उत्पन्न हो जाती हैं। हमारा देश एक विशाल क्षेत्रफल वाला देश है जिसमें अनेक तरह की विभिन्न दृष्टिगोचर होती हैं। लोगों में बोलने की खानपान की आदतों की रहन-सहन ,आचार — व्यवहार आदि की विभिन्नताएं विशेष रूप से देखी जा सकती हैं। यहां तक की मानवीय शारीरिक गठन में भी अंतर स्पष्ट रूप से दिखाई देता है इतनी समय विभिन्नताएं होते हुए भी हमारे देश के सभी नागरिक एकता के सूत्र में बंधे हुए रहते हैं। एकता का स्वरूप यह एकता बाहर से लाई हुई कोई चीज नहीं है इसके विपरीत यह एकता हमारी पीढ़ियों की विचारधारा मे सदियों से समाई हुई है। हमारी इस एकता का मूल हमारी सहनशक्ति में विद्यमान है। हम सभी आपस में कितना भी विरोध हो फिर भी उस विरोध को भूल कर या उससे अलग हटकर व्यवहार करने में सक्षम होते हैं। यह हमारी सहनशक्ति के द्वारा ही संभव है। हमारे देश में एकता के अनेक रूप देखे जा सकते हैं जिनमें धार्मिक एकता, सामाजिक एकता और राष्ट्रीय एकता सर्वोपरि है। आपस मे मिल जुल कर रहने की भावना के कारण ही सभी तरह की एकता संभव है। यह हमारी विचारधारा में स्वयं ही समाहित है। आज के समय में कुछ अराजक तत्व इस भावना को छिन्न-भिन्न करना चाहते हैं ताकि हमारे देश की एकता और अखंडता को समाप्त किया जा सके। फिर भी हम सब मिलकर के रहने में अटूट विश्वास रखते हैं इस विश्वास के द्वारा ही हम समस्त तरह के अराजक आघातों को चकनाचूर कर देते हैं। उपसंहार हमारे समाज पर अनेक तरह के दवाव बनाए जा रहे हैं ताकि हमारी राष्ट्रीय समरसता और एकता को कमजोर किया जा सके इस कार्य में हमारे पड़ोसी देश सक्रिय हैं। अनेक तरह की राजनीतिक प्रतिद्वंदीताएँ हमारे समाज की एकता को कमजोर करने का कार्य कर रही हैं लेकिन हमारे विरोधी चाह कर भी हमारी एकता को समाप्त नहीं कर सकते हैं। Unity in Diversity Essay in Hindi. एकता एक भाव एकता Essay On Unity in Diversity in Hindi का सबसे बड़ा शत्रु स्वार्थ है। जहाँ स्वार्थ की भावना है वहाँ एकता का भाव नही हो सकता,क्योंकि जहाँ एकता है वहाँ कोई अपना हित बस नही देखता बल्कि सबके भलाई का विचार रखता है। यह बात हम सब जानते हैं कि भारतीय समाज मे बहुत विविधता है, और यह हजारों सालों से बनी हुई है। लेकिन कुछ लोग अपनी स्वार्थसिद्धि लोगो की अंदर इस विविधता को आधार बनाकर गलत भाव डाले जा रहे हैं, जिसका असर कही न कही हमारे समाज मे दिखाई देने लगा है। निष्कर्ष. भारतीय संस्कृति कितनी मिश्रित है इसका सबसे बड़ा उदाहरण भारतीय Essay On Unity in Diversity in Hindi संगीत हैं, खासकर भारतीय शास्त्रीय संगीत। भारतीय संगीत में जहाँ एक तरफ भारत मे ही निर्मित प्राचीन संगीत कला की छटा दिखाई देती है, वही साथ मे मुगलकालीन मुश्लिम संगीत का मिश्रण एक खास अनुभव देता है। कुछ वाद्य यंत्र जिनका निर्माण भारत मे हुआ है वो विश्व मे बहुत ज्यादा प्रचलित है। भारतीय वीणा और पर्सियन तंबूरा से मिलकर सितार का निर्माण हुआ था। साथ ही गजल और कब्बाली के मिले-जुले रूप ने भारतीय उपमहाद्वीप के लोगो को एक अलग ही अनुभव दिया है। सामाजिक एकता का सबसे बड़ा कारण.

Next

एकता में बल है पर निबंध

essay on unity in hindi

भारत के अलग अलग क्षेत्रों ने साहित्य के लिए भी बहुत योगदान दिया है। जैसे वेदों का निर्माण उत्तर-पश्चिम क्षेत्र में, यजुर्वेद का निर्माण कुरु पांचाल क्षेत्र में, उपनिषद की रचना मगध में, गीत गोविंद की रचना बंगाल में चार्यपदास उड़ीसा में, कालिदास के महाकाव्य और ड्रामा की रचना उज्जैनी में हुआ था। इसके अलावा भी भारत मे कई किताबों की रचना हुई थी, जिनमे ज्ञान-विज्ञान, कला, स्वास्थ्य आदि के बारे में जानकारी दी गई थी। इस तरह की कई किताबों को नालंदा के पुस्तकालय में इकट्ठा करके रखा गया था। भारतीय संगीत में विविधता. एकता का क्या आधार होता है? The level of this article is mid-level so, it will be helpful for small and big student and they can easily write on this topic. भारत एक विविधताओं वाला देश है। यहां पर विविध प्रकार की संस्कृतियों और विविध प्रकार के धर्म पाए जाते हैं। भारत देश में विभिन्न धर्म के लोग एक साथ एक समाज में ही रहते हैं। जहां पर हर पीढ़ी को यही सिखाया जाता है, कि वह एक समाज में एक साथ मिलकर रहें और एकजुटता के साथ ही अपने पूरे जीवन को व्यतीत करें, क्योंकि समय आने पर समाज ही हमारा साथ देता है अन्यथा कोई नहीं। राष्ट्रीय एकता किसी भी देश के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण मानी गई है, क्योंकि अगर देश के सभी निवासियों में एकता रहेगी, तभी उसका विकास संभव है। उस देश के प्रत्येक व्यक्ति को उस देश से प्रेम भावना रखने के लिए अगर कोई प्रेरित करता है, तो वह होती है, सिर्फ एकता, क्योंकि एकता में इतना बल होता है, कि वह जो चाहे वह करवा सकता है या कर भी सकता है। एकता का महत्व किसी भी देश के व्यक्ति में अगर हृदय में राष्ट्रीयता की भावना होगी तो, उसके राष्ट्रीय को सशक्त बनने से कोई भी नहीं रोक सकता है, और प्रत्येक राष्ट्रीय यही चाहता है, कि उसके राष्ट्रीय में रहने वाले सभी नागरिक प्रेम पूर्वक और अपनेपन के साथ रहे, तभी वह अपने राष्ट्रीय के प्रति प्रेम भावना को जागृत कर सकेंगे। राष्ट्रीय एकता देश को मजबूत और सभी देशों, राज्य बनाने में सबसे महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। एकता की भावना ऐसी होती है, कि जिसके बिना कोई भी वर्ग और जाति इत्यादि की परवाह किए बिना, लोग वहां पर एकजुट होकर काम करते हैं, और एक दूसरे के लिए हमेशा तैयार रहते हैं। एकता ही है, जो हमें एक साथ काम करने के लिए प्रेरित करती है। हमारे भारत देश में अनेक भाषाएं बोली जाती हैं, इसीलिए भारत को अनेकता में एकता की मिसाल देकर भी संबोधित किया जाता है। परंतु आज के समय में यह देखा जा रहा है, कि जैसे जैसे समय व्यतीत हो रहा है, जैसे जैसे समय परिवर्तित हो रहा है, वैसे वैसे लोगों के बीच में एकता खत्म सी होती जा रही है। लोग एक दूसरे को देख कर खुश नहीं रह पाते हैं। हम लोग एक दूसरे का सहयोग नहीं करते हैं। एक दूसरे को हीन भावना से देखते हैं, जो कि देश के लिए सही नहीं है। एकता में कमी क्यों हो रही है? If you liked this article, then please comment below and tell us how you liked it. . We help the students to do their homework in an effective way. Essay on Unity in Diversity in Hindi 1000 Words प्रस्तावना. जब हम ईरान अब सब भारतीयों के बीच इतना गहराई भरा रिश्ता बन चुका है कि विविधता सिर्फ रस्म-रिवाज, पहनावे, भोजन में ही बस दिखाई देती है। अंदर से हम सब एक है। इसीलिए कहा भी गया है की भारत की असली पहचान यह है कि ऊपर से भले सब अलग अलग धर्म, जाति यही वजह है इतनी विविधता होने के बावजूद भी लोग एक साथ रह रहे है वो भी बिना किसी मनमुटाव के। निष्कर्ष.

Next

10 Lines on Unity in Hindi

essay on unity in hindi

भारतीय समाज की सबसे खास बात विविधता में एकता है जिसकी तारीफ दुनियाँ भर के लोग करते हैं। दुनियाँ के तमाम देशों से लोग भारत की ऐसी विविधता को देखने के लिए खिंचे चले आते हैं। भारत की इस विविधता की चर्चा सभी जगह होती है और भारतीय समाज की तारीफ इसी विविधता के कारण होती है। विविधता में एकता यह भी दर्शाती है कि भारतीय सामाजिक व्यवस्था कितनी मजबूत है और लोकतांत्रिक नियम यहाँ हजारों साल से यहाँ मौजूद है। विविधता में एकता कोई नई परिकल्पना नही है और यह सिर्फ भारत मे ही लागू नही है, बल्कि दुनियाँ के कई देशों में अनेकता में एकता को आधार बनाकर कई बड़े जनांदोलन हो चुके हैं। लेकिन भारत की विविधता की चर्चा हमेशा होती है, क्योंकि इतनी बड़ी आबादी में विविधता के बीच एकता होना एक बड़ी बात है। भारत की भौंगोलिक विविधता. क्या नुकसान होते हैं? में खाने पीने का ढंग बदल जाता है। इतनी विविधता होने भारतीय समाज की इस विशेषता को देख कई बार बड़ी बड़ी शख्सियत हैरान होती है क्योंकि विविधता होने से यही तात्पर्य निकलता है कि कुछ कमजोरी होगी, लेकिन भारतीय समाज Essay on Unity in Diversity in Hindi 250 Words प्रस्तावना दुनियाँ की सबसे प्राचीन सभ्यताओं में इसी वजह से हमारा देश इतनी विविधता से भरा हुआ है। दुनियाँ विविधता में एकता ही है भारत की असली पहचान. हम सब यह जानते हैं कि भारत देश और भारतीय समाज प्राचीन काल से इस वजह से एक था क्योंकि यहां इस वजह से बुनियादी से रूप से भारतीय समाज हमेशा से एक था लेकिन जब बात राजनीतिक रूप से एकता की आती है तो यहाँ स्थिति बदल जाती है। हमारा देश शुरुआत से कभी भी एक ही शासक के आधीन नही रहा है। यहाँ तक ही जब भारत अंग्रेजों का गुलाम था उस वक़्त भी देश मे 600 छोटी बड़ी रियासतें थी। इसके पहले गुप्त शासन काल मे देश एक ही सल्तनत के अधीन था। इसके बाद देश की आजादी के बाद भी इस बात का ध्यान रखा गया था कि राजनीतिक स्तर पर विविधता बरकरार रहे ताकि देश वे सभी लोग आजादी महसूस कर सकें। भारतीय साहित्य में विविधता. For any help regarding education Students please comment us. . . .

Next

एकता पर निबंध

essay on unity in hindi

. . . . .

Next

राष्ट्रीय एकता पर निबंध Essay On National Unity In Hindi

essay on unity in hindi

. . . . .

Next