Discipline in life in hindi. जीवन में अनुशासन का महत्व 2022-10-20

Discipline in life in hindi Rating: 9,2/10 879 reviews

जीवन में अनुशासन का महत्व

अनुशासन हमारे जीवन का एक बहुत ही महत्वपूर्ण हिस्सा है। यह हमारे जीवन को सफलता पर ले जाने वाला एक महत्वपूर्ण सुविधा है। अनुशासन हमारे जीवन में सफलता, समझदारी, स्थिरता, समृद्धि और सुख को प्रदान करता है।

अनुशासन हमारे जीवन में सफलता की एक महत्वपूर्ण सुविधा है। जब हम अपने जीवन में अनुशासन का पालन करते हैं, तो हम अपने कार्यों और धार्मिकताओं को सही ढंग से पूरा करने में सफल हो जाते हैं। हमारे जीवन में अनुशासन होना हमारी सफलता के लिए एक अहम आधार है।

अनुशासन हमारे जीवन में सम

विद्यार्थी जीवन में अनुशासन का महत्व पर निबंध

discipline in life in hindi

Get below some essays on discipline in students of life. बल्कि देश की भावी तस्वीर को भी बिगाड़ रही हैं. You see, most people fall in the trap of content consumption. इसकी जिम्मेदारी पूरे समाज को उठानी चाहिए. Or to put it in simpler terms: be good now! Your body weight limits your ability to live certain experiences. अध्ययन के बजाय अन्य बातों में छात्रों की रूचि अधिक देखने को मिलती हैं.

Next

Essay on Discipline in Hindi

discipline in life in hindi

Punjabi in hindi language. In their class 3. Accept exhaustion as possible in our society and in student and newsmakers. As always, here is the video version of this article: With that said, here are 15 disciplines you should have in life. यदि आप अनुशाषित नही है तो शायद आप बहुत कुछ नही हासिल कर पायेंगे क्योंकि अनुशासन की वह कुंजी है, जिससे हर सफलता का ताला खुलता है। किसी भी लक्ष्य को हम तब तक हासिल नही कर सकते जब तक कि निरंतर उसे पाने की कोशिश न कि गई हो। लेकिन यह कोशिश कोई तभी कर सकता है जब उसके जीवन मे अनुशासन नही है। अनुशासन के अभाव में कोई भी कुछ दिन तो मेहनत कर पायेगा लेकिन जैसे ही लक्ष्य पाने की प्रेरणा कुछ कम होगी तो कोशिश में भी कमी आ जायेगी और फिर लक्ष्य पास आने के जगह दूर चला जाएगा। विद्यार्थी के जीवन मे अनुशासन का महत्व Importance of discipline in student life एक विद्यार्थी के जीवन मे अनुशासन होना सबसे ज्यादा जरूरी है, क्योंकि यदि कोई बाल अवस्था मे अपना समय पढ़ाई आदि की जगह फिजूल के कामों में बर्बाद करता है तो आगे का जीवन काफी मुश्किल भरा हो सकता है। एक विद्यार्थी को अपनी पढ़ाई नियमित रूप से करना चाहिए। मन हो या नही हो, एक निश्चित वक़्त के लिए रोज पढ़ाई करना चाहिए। यदि हम मन की सुनेंगे तो कभी सफल नही हो पाएंगे क्योंकि मन चंचल है और इसे स्थिर होना पसंद नही है। इसलिए अनुशासन की डोरी से मन को बांधना पड़ता है। यदि आप अपने जीवन मे अनुशासन ले आते हैं, और मन हो या न हो अपनी पढ़ाई रोज करते हैं, अपने सभी कामों को वक़्त पर पूरा करते हैं तो मैं यकीन के साथ कह सकता हूँ आप किसी भी क्षेत्र में हों, सफल जरूर होंगे, क्योंकि अनुशासन है तो सफलता है। अनुशासनहीनता के नुकसान Disadvantages of Indiscipline among stundents जीवन मे तरक्की करने के लिए और कुछ हासिल करने के लिए यह बहुत जरूरी है कि आप कोई कार्य अनुशासित ढंग से करें। लेकिन आपके जीवन मे अनुशासन नही है तो उसकी भी काफी बड़ी कीमत चुकानी पड़ सकती है। अनुशासन की कमी का सबसे बड़ा नुकसान यह है कि आपका वक़्त बहुत अधिक बर्बाद होता है। जैसे कोई मन के मुताबिक काम करने की सोचे तो किसी दिन मन पड़ेगा तो काम करेगा और जिस दिन मन नही हुआ तो काम नही करेगा। पर एक अनुशासित व्यक्ति मन न होने की स्थिति में भी काम करेगा क्योंकि वह जानता है कि यह काम जरूरी है। अनुशासनहीनता से व्यक्ति के अंदर कामचोरी भी आती है। उसके काम करने का कोई एक खास तरीका नही होता है। अनुशासन की कमी के कारण कोई भी काम वक़्त रहते पूरा नही हो सकता है। अनुशासन कैसे लाए? विद्यार्थी जीवन में अनुशासन वैसे तो जीवन के हर क्षेत्र में अनुशासन आवश्यक है, किन्तु जहाँ राष्ट्र की भावी पीढियां ढ़लती है उस विद्यार्थी जीवन में अनुशासन का होना अत्यंत महत्वपूर्ण है. अनुशासनप्रियता के सुपरिणाम— जीवन में सफलता का रहस्य अनुशासन की भावना रखना हैं. वस्तुतः विद्यार्थियों का अनुशासनहीन होना उनके अध्ययन व उनकी उन्नति तथा उनके शारीरिक विकास में बाधक है.

Next

अनुशासन का महत्व ~ Importance of Discipline in life

discipline in life in hindi

विद्यालयों में तो अनुशासन में रहना और भी आवश्यक हो जाता हैं. विद्यालय देश की भावी पीढ़ी को तैयार करते हैं, विद्यालय जीवन ही व्यक्ति की भावी तस्वीर प्रस्तुत करता हैं. इस स्थिति में नकल से उतीर्ण और अनुशासनहीन छात्र कहाँ ठहर पाएगे. You eat food because it serves the purpose of health, not that of taste. विद्यार्थी जीवन भाषण में अनुशासन का महत्व — १ discipline in student life speech In Hindi आदरणीय प्रधानाचार्य, अध्यक्ष, समिति के सदस्य, शिक्षक और प्रिय साथी छात्र- सभी को हार्दिक बधाई! Sleep 4 to 5 hours per night, wake up early and put in as many hours as you can so you can get to your goal quickly. We have no plans to re-open anytime soon as we will focus our efforts on being a guiding mentor to those who are purchasing the course during the week of the launch. This course is a game-changer for you personal life and your business.

Next

विद्यार्थी और अनुशासन पर निबंध

discipline in life in hindi

अनुशासनहीनता ही अपराधियों और गुंडों को जन्म दे रही हैं. जब हम खुद के लिए कुछ नियम बनाते हैं और उन नियमों का पालन करते हैं फिर चाहे आपकी इच्छा हो या नही, यही अनुशासन कहलाता है। जीवन में अनुशासन को शामिल करने के मन का महत्व कम हो जाता है। जैसे कि अनुशासन न होने पर हम कोई काम करेंगे या नही, यह मन पर ज्यादा निर्भर करता है। जबकि एक बार हमने यदि नियम बना लिया और अनुशासन से उनका पालन करते हैं तो फिर किसी दिन वह काम करने का मन न भी रहे तो भी वह काम हम कर लेते हैं, क्योंकि हमने खुद को इस तरह तैयार कर लिया है। अनुशासन का महत्व. Discipline in hindi education essay. यही कारण है कि स्वतंत्रता प्राप्ति के बाद भारत की जो प्रगति होनी चाहिए, वह नही हो पाई है. इससे अनेक दुष्परिणाम समस्या रूप में उभर रहे हैं.


Next

Scout

discipline in life in hindi

यही कारण है कि स्वतंत्रता प्राप्ति के बाद भारत की जो प्रगति होनी चाहिए, वह नहीं हो पाई हैं. You — quite literally — have nothing to lose. Your mind is a gold mine, only the gold is buried under all that noise. हर एक के जीवन में अनुशासन सबसे महत्पूर्ण चीज है। बिना अनुशासन के कोई भी एक खुशहाल जीवन नहीं जी सकता है। कुछ नियमों और कायदों के साथ ये जीवन जीने का एक तरीका है। अनुशासन सब कुछ है जो हम सही समय पर सही तरीके से करते हैं। ये हमें सही राह पर ले जाता है।हम अपने रोजमर्रा के जीवन में कई प्रकार के नियमों और कायदों के द्वारा अनुशासन पर चलते हैं। अनुशासन पर छोटे तथा बड़े निबंध Short and Long Essay on Discipline in Hindi, Anushasan par Nibandh Hindi mein निबंध 1 250 शब्द — अनुशासन प्रस्तावना अनुशासित व्यक्ति आज्ञाकारी होता है और उसके पास उचित सत्ता के आज्ञा पालन के लिये स्व-शासित व्यवहार होता है। अनुशासन पूरे जीवन में बहुत महत्व रखता है और जीवन के हर कार्यों में इसकी जरुरत होती है। यह सभी के लिये आवश्यक है जो किसी भी प्रोजेक्ट पर गंभीरता से कार्य करने के लिये जरुरी है। अगर हम अपने वरिष्ठों की आज्ञा और नियमों को नहीं मानेंगे तो अवश्य हमें परेशानियों का सामना करना पड़ेगा और असफल भी हो सकते हैं। अनुशासन का पालन हमें हमेशा अनुशासन में होना चाहिये और अपने जीवन में सफल होने के लिये अपने शिक्षक और माता-पिता के आदेशों का पालन करना चाहिये। हमें सुबह जल्दी उठना चाहिये, निययमित दिनचर्या के तहत साफ पानी पीकर शौचालय जाना चाहिये, दाँतों को साफ करने के बाद नहाना चाहिये और इसके बाद नाश्ता करना चाहिये। बिना खाना लिये हमें स्कूल नहीं जाना चाहिये। हमें सही समय पर स्वच्छता और सफाई से अपना गृह-कार्य करना चाहिये। हमें कभी भी अपने माता-पिता की बातों का निरादर, नकारना या उन्हें दुखी नहीं करना चाहिये। हमें अपने स्कूल में पूरे यूनिफार्म में और सही समय पर जाना चाहिये। कक्षा में स्कूल के नियमों के अनुसार हमें प्रार्थना करना चाहिये। हमें अपने शिक्षकों की आज्ञा का पालन करना चाहिये, साफ लिखावट से अपना कार्य करना चाहिये तथा सही समय पर दिये गये पाठ को अच्छे से याद करना चाहिये। हमें शिक्षक, प्रधानाध्यापक, चौकीदार, खाना बनाने वाले या विद्यार्थियों से बुरा बर्ताव नहीं करना चाहिये। निष्कर्ष हमें सभी के साथ अच्छा व्यवहार करना चाहिये, चाहे वो घर, स्कूल, कार्यालय या कोई दूसरी जगह हो। बिना अनुशासन के कोई भी अपने जीवन में कोई भी बड़ी उपलब्धि प्राप्त नहीं कर सकता। इसलिये अपने जीवन में सफल इंसान बनने के लिये हमें अपने शिक्षक और माता-पिता की बात माननी चाहिये। निबंध 2 300 शब्द — अनुशासन: सफलता की चाबी प्रस्तावना अनुशासन एक क्रिया है जो अपने शरीर, दिमाग और आत्मा को नियंत्रित करता है और परिवार के बड़ों, शिक्षकों और माता-पिता की आज्ञा को मानने के द्वारा सभी कार्य को सही तरीके से करने में मदद करता है। ये एक ऐसी क्रिया है जो अनुशासन में रह कर हर नियम-कानून को मानने के लिये हमारे दिमाग को तैयार करती है। हम अपने दैनिक जीवन में सभी प्राकृतिक संसाधनों में वास्तविक अनुशासन के उदाहरण को देख सकते हैं। अनुशासन- सफलता की चाबी सूरज और चाँद का सही समय पर उगना और अस्त होना, सुबह और शाम का अपने सही समय पर आना और जाना, नदियाँ हमेशा बहती है, अभिभावक हमेशा प्यार करते हैं, शिक्षक हमेशा शिक्षा देते है और भी बहुत कुछ। तो फिर क्यों हम अपने जीवन में पीछे हैं, बिना परेशानियों का सामना किये आगे बढ़ने के लिये हमें भी अपने जीवन में सभी जरुरी अनुशासन का पालन करना चाहिये। हमें अपने शिक्षक, अभिभावक और बड़ों की बातों को मानना चाहिये। हमें उनके अनुभवों के बारे में उनसे सुनना चाहिये और उनकी सफलता और असफलता से सीखना चाहिये। जब भी हम किसी चीज को गहराई से देखना और समझना शुरु करते हैं, तो ये हमें जीवन में महत्वपूर्ण सीख देता है। मौसम अपने सही समय पर आता और जाता है, आकाश बारिश करता है और रुकता है आदि सभी सही समय होती हैं जो हमारे जीवन को संतुलित बनाती है। इसलिये, इस धरती पर जीवन चक्र को कायम रखने के लिये हमें भी अनुशासन में रहने की जरुरत है। हमारे पास अपने शिक्षक, अभिभावक, पर्यावरण, परिवार, वातावरण और जीवन आदि के प्रति बहुत सारी जिम्मेदारियां हैं। मानव होने के नाते हमारे पास सोचने-समझने का, सही-गलत के बारे में फैसला करने के लिये और अपनी योजना को कार्य में बदलने के लिये अच्छा दिमाग है। इसलिये, अपने जीवन में अनुशासन के महत्व और जरुरत को जानने के लिये हम अत्यधिक जिम्मेदार हैं। निष्कर्ष अनुशासनहीनता की वजह से जीवन में ढेर सारी दुविधा हो जाती है और व्यक्ति को गैर-जिम्मेदार और आलसी बना देता है। ये हमारे विश्वास के स्तर को कम करती है और आसान कार्यों में भी व्यक्ति को दुविधाग्रस्त रखती है। जबकि अनुशासन में होने से ये हमें जीवन के सबसे अधिक ऊंचाईयों की सीढ़ी पर ले जाती है। निबंध 3 400 शब्द — स्व-अनुशासन की जरुरत प्रस्तावना अनुशासन कुछ ऐसा है जो सभी को अच्छे से नियंत्रित किये रखता है। ये व्यक्ति को आगे बढ़ने के लिये प्रेरित करता है और सफल बनाता है। हम में से हर एक ने अपने जीवन में समझदारी और जरुरत के अनुसार अनुशासन का अलग-अलग अनुभव किया है। जीवन में सही रास्ते पर चलने के लिये हर एक व्यक्ति में अनुशासन की बहुत जरुरत पड़ती है। स्व-अनुशासन की जरुरत अनुशासन के बिना जीवन बिल्कुल निष्क्रिय और निर्थक हो जाता है क्योंकि कुछ भी योजना अनुसार नहीं होता है। अगर हमें किसी भी प्रोजेक्ट को पूरा करने के बारे में अपनी योजना को लागू करना है तो सबसे पहले हमें अनुशासन में होना पड़ेगा। अनुशासन दो प्रकार का होता है एक वो जो हमें बाहरी समाज से मिलता है और दूसरा वो जो हमारे अंदर खुद से उत्पन्न होता है। हालाँकि कई बार, हमें किसी प्रभावशाली व्यक्ति से अपने स्व-अनुशासन आदतों में सुधार करने के लिये प्रेरणा की जरुरत होती है। हमारे जीवन के कई पड़ावों पर बहुत से रास्तों पर हमें अनुशासन की जरुरत पड़ती है इसलिये बचपन से ही अनुशासन का अभ्यास करना अच्छा होता है। स्व-अनुशासन का सभी व्यक्तियों के लिये अलग-अलग अर्थ होता है जैसे विद्यार्थियों के लिये इसका मतलब है सही समय पर एकाग्रता के साथ पढ़ना और दिये गये कार्य को पूरा करना। हालाँकि काम करने वाले इंसान के लिये सुबह जल्दी उठना, व्यायाम करना, समय पर कार्यालय जाना और ऑफिस के कार्य को ठीक ढंग से करना। हर एक में स्व-अनुशासन की बहुत जरुरत है क्योंकि आज के आधुनिक समय में किसी को भी दूसरों को अनुशासन के लिये प्रेरित करने का समय नहीं है। बिना अनुशासन के कोई भी अपने जीवन में असफल हो सकता है, अनुशासन के बिना कोई भी इंसान कभी भी अपने अकादमिक जीवन या दूसरे कार्यों की खुशी नहीं मना सकता। स्व-अनुशासन की जरुरत हर क्षेत्र में होती है जैसे संतुलित भोजन करना मोटापे और बेकार खाने को नियंत्रित करना , नियमित व्यायाम इसके लिये एकाग्रता की जरुरत है आदि। गड़बड़ और अनियंत्रित खाने-पीने से किसी को भी स्वास्थ्य से जुड़ी समस्याएँ हो सकती हैं इसलिये स्वस्थ रहने के लिये अनुशासन की जरुरत है। अभिवावक को स्व-अनुशासन को विकसित करने की जरुरत है क्योंकि उसी से वो अपने बच्चों को एक अच्छा अनुशासन सिखा सकते हैं। उन्हें हर समय अपने बच्चों को प्रेरित करते रहने की जुरुरत पड़ती है जिससे वो दूसरों से अच्छा व्यवहार करें और हर कार्य को सही समय पर करें। कुछ शैतान बच्चे अपने माता-पिता के अनुशासन को नहीं मानते हैं, ऐसे वक्त में अभिभावकों को हिम्मत और धैर्य के साथ अपने बदमाश बच्चों को सिखाना चाहिये। निष्कर्ष प्रकृति के अनुसार अनुशासन को ग्रहण करने की सभी व्यक्ति का अलग समय और क्षमता होती है । इसलिये, कभी हार मत मानो और लगातार प्रयास करते रहो अनुशासन में होने को, छोटे-छोटे कदमों से ही बड़ी मंजिलें हासिल की जा सकती हैं। निबंध 4 600 शब्द — जीवन में अनुशासन का महत्व प्रस्तावना अनुशासन हमारे जीवन का एक बहुत महत्वपूर्ण हिस्सा है। इसके बिना हमारा जीवन सुचारु रुप से नहीं चल सकता, खासतौर से आज के आधुनिक समय में अनुशासन बहुत ही आवश्यक है क्योंकि इस व्यस्तता भरे समय में यदि हम अनुशासन भरे दिनचर्या का पालन ना करें तो हमारा जीवन अस्त-व्यस्त हो जायेगा। जीवन में अनुशासन का महत्व अनुशासन कार्यों को क्रमबद्ध तथा संयमित तरीको से करने की एक विधि होती है, यदि हम नियमित रुप से अनुशासित दिनचर्या का पालन करें तो हम अपने जीवन स्तर को काफी अच्छा बना सकते हैं। यह हमें हमारे कार्यों को और भी अच्छी तरह से करने में हमारी सहायता करता है। शोधों में देखा गया है कि जो लोग अपने जीवन को अनुशासित तरीके से जीते हैं। वह अस्त-व्यस्त दिनचर्या का पालन करने वालों की अपेक्षा अपने समय तथा उर्जा का अधिक अच्छीतरह उपयोग कर पाते हैं। इसके साथ ही अनुशासन हमारे स्वास्थ्य और सामाजिक स्तर को सुधारने में भी हमारी सहायता करता है। यही कारण है कि जीवन में अनुशासन का पालन करने वालों को अनुशासनहीनव्यक्तियोंकी अपेक्षा अधिक मान-सम्मान और सफलता प्राप्त होती है। वास्तव में अनुशासन का अर्थ, यह नहीं है कि हम दूसरों के बताये कार्यों का पालन करके अपने जीवन में अनुशासन लाने का प्रयास करें, इसके बजाय हमें अपने जीवन में स्वअनुशासन का पालन करना चाहिए क्योंकि स्वंय द्वारा पालित अनुशासन ही सर्वोत्तम होताहै, हर एक व्यक्ति का लक्ष्य तथा कार्यप्रणाली दूसरे से भिन्न होती है, इसलिए दूसरों द्वारा बताये गये अनुशासन के तरीकों को हमें अपने प्राथमिकता के आधार पर अपनाना चाहिए। अनुशासित रहने के तरीके हम अपने जीवन में अनुशासन को अपनाने के लिए निम्नलिखित तरीकों का पालन कर सकते हैं। 1. Argumentative essay discipline in our life essay in our life is the college magazine phuleli. हमारे देशवासी वर्तमान में अनुशासनहीनता से ग्रस्त हैं. इसलिए अपने शासन में रहना सबसे सुखदायी होता हैं.

Next

विद्यार्थी जीवन में अनुशासन का महत्त्व पर निबंध

discipline in life in hindi

सरकारी कर्मचारी भी अनुशासनहीन हो रहे है. That was the foundation on which we built GOAL MASTERY. We live in this perception driven world, where we all present ourselves in order to serve personal purposes, such as being liked, being accepted, climbing the ladder to a goal we find fitting — or that society has told us it holds in high regard. व्यर्थ के कार्यों से दूर रहना। 4. Chapter one of discipline is a way. Education essay with the teacher education essay was very important virtue.

Next

विद्यार्थी जीवन भाषण में अनुशासन का महत्व

discipline in life in hindi

आदमी की शान अनुशासन तोड़ने में नहीं उसका स्वाभिमान के साथ पालन करने में हैं. अनुशासनप्रिय छात्र ही परिश्रमी, कर्तव्यपरायण और विनयशील हो सकता हैं और जीवन में प्रगति पथ पर स्वतः अग्रसर हो सकता हैं. Your success as a money. जिसे अपनाकर प्रत्येक व्यक्ति अपना जीवन सफल बना सकता है, इससे अनेक श्रेष्ट गुणों का विकास होता है. The pandemic has put a big spotlight on just how vulnerable our bodies are, where it went down hard on everyone who has not disciplined their body.

Next

Essay on discipline in student life in hindi

discipline in life in hindi

The sixties thesis in hindi. समाज के हर वर्ग को अनुशासन का पालन करना होगा तभी छात्रों से अनुशासित होने की अपेक्षा की जा सकती हैं. Would you be happy? देवेन्द्र यादव, नाहीद बी, मोहिता वर्मा, गौतम कुमार आदि उपस्थित रहे। समन्वयक, मोहिता वर्मा एवं गौतम कुमार रहे।. इसलिए अनुशासन विद्यार्थी जीवन का एक महत्वपूर्ण अंग हैं. समाज में जो कुछ घटित होगा. They deal with problems of discipline in hindi.

Next